भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईश्वर का दास / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आदमी ने
पत्थ रों को काटकर चेहरे गढ़े
पत्थ रों को समर्पित हुआ
लड़ाइयाँ लड़ीं और
समर्पण के बाद की प्रेरणाएँ लीं
और आदमी दुखी रहा हमेशा
ईश्वदर को अपने में लेकर भी
अपने को ईश्ववर को देकर भी
वह निष्कईरूण समाधान
आदमी पर फला नहीं आज तक।


आदमी यह और है जो
जंगली जितना है, उतना ही
ईश्वीर का दास है!