भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईसुरी की फाग-13 / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बखरी बसियत है भारे की दई पिया प्यारे की

कच्ची भींट उठी माटी की, छाई फूस चारे की

बे बंदेज बड़ी बे बाड़ा, जई में दस द्वारे की

एकऊ नईं किबार किबरियाँ, बिना कुची तारे की

ईसुर चाय निकारौ जिदना, हमें कौन उवारे की ।