भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईसुरी की फाग-5 / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दिल की राम हमारी जानें

मित्र झूठ न मानें

हम तुम लाल बतात जात ते, आज रात बर्रानें

सा परतीत आज भई बातें, सपनेन काए दिखानें ?

ना हो, हो, देख लेत हैं, फूले नईं समानें

भौत दिनन से मोरो ईसुर तुमें लगौ दिल चानें


भावार्थ


हमारे मन की बात तो राम ही जानते हैं । मित्र, हमारी बात को झूठ न समझें । आज रात को ही हमने यह सपना

देखा है कि हम उनसे बात कर रहे हैं । तब हमें यह अन्दाज़ हुआ कि सपना हमने क्यों देखा ? हम उन्हें यहाँ-वहाँ

किसी न किसी तरह देख कर ख़ुश होते रहते हैं न, इसलिए अब वे हमें सपने में भी दिखाई देने लगी हैं । अरे ईसुरी,

मेरा दिल उन्हें बहुत दिनों से चाहता है ।