भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ई कुरतै में करामात है / मानसिंह शेखावत 'मऊ'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनजाणी पहचाण करा दे !
घर में खींचाताण करा दे !!
सारी ऊंदी बा'ण करा दे !
कुड़ताई कै पाण करा दे !!
मुक्का-डुक्का ओर लात है !
ई कुरतै में करामात है !! 1 !!

कुरतै में तो भांड फिरै !
ई समाज का साँड फिरै !!
घर-घर खाता खांड फिरै !
करता किसकिन्दा कांड फिरै !!
सै कुरतै कै लग्या साथ है !
ई कुरतै में करामात है !! 2 !!

कोयल पाछैं लग्या काग है !
ई कुरतै में निरा दाग है !!
नुंवा गवैया नुंवी राग है !
भारतमाता तेरा भाग है !!
मिनखपणै कै धरी लात है !
ई कुरतै में करामात है !! 3 !!

ईं कुरतै की नुंवी चाल है !
कळजुग में आ बणी ढाल है !!
मोटी बुद्धी ओर खाल है !
मत पूछो के हालचाल है !!
बिन कुरताळो तो अनाथ है !
ई कुरतै में करामात है !! 4 !!

कुरतै में है भाग्य-विधाता !
कुरतै में ही राष्ट्र-निर्माता !!
कुरतै में बैरी अर भ्राता !
कुरतै में बोदा अर मा'ता !!
कुरताळां की आ जमात है !
ई कुरतै में करामात है !! 5 !!

कुरतै में राजा-दरबारी !
कुरतै में बाण्यां-बोपारी !!
कुरतै में ही सिंघ-शिकारी !
कुरतै में डाकू'र जुआरी !!
अ कुरताळा पिता-मात है !
ई कुरतै में करामात है !! 6 !!

जे घर में घाटा को झगड़ो !
पै'रो कुरतो पायो पकड़ो !!
ढीलौ-ढालो सीधौ-सकड़ो !
काम करछै पण यो तगड़ो !!
मोकै आयो भरै भात है !
ई कुरतै में करामात है !! 7 !!

ई कुरतै में छिपी छुरी है !
ई मूसळ की मार बुरी है !!
आजादी बेमौत मरी है !
बापू की तसवीर धरी है !!
सै मुस्टंडा एक साथ है !
सारा गुंडा एक साथ है !!
ई कुरतै में करामात है  !! 8 !!