भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

उगि गेल चँदवा, छपित भेल हे सुरूजा / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

उगि गेल चँदवा, छपित[1] भेल हे सुरूजा[2]
बइठहू न[3] दुलरइता दुलहा, फूल केर हे सेजिया॥1॥
कइसे हम बइठू हे सासु, फूल केर हे सेजिया।
मोर दादा साहेब भींजत[4] होइहें, चारो पहर रे रतिया॥2॥
दादा के देबो रे दुलहा, सोनामूठी[5] रे छतवा[6]
छतबे इड़ोते[7] रे दादा, चलत बरियतिया[8]॥3॥

शब्दार्थ
  1. छिप गया, तिरोहित हो गया
  2. सूर्य
  3. बैठो न, अर्थात बैठो
  4. भींगते
  5. सोने की मूठवाला
  6. छता, छत्र
  7. आड़ में ओट में
  8. बराती