भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उजाला हिन्दी भावानुवाद / नवीन जोशी 'नवेंदु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


 उजाला (हिन्दी भावानुवाद)
उजाला-
जुगनुओं का,
गैस का-छिलकों की ज्वाला का
भुतहा रोशनियों और
चांदनी की तरह
ज्ञान का
जब तक
नहीं होता
तब तक
अंधेरा ही लगता है उजाले जैसा।

कोई-कोई
आंखों को तान कर
हाथों से टटोल कर
हाथ-पैरों में
आंखें जोड़कर
कोशिश करते हैं,

फिर भी
कौन कह सकता है (पूरे विश्वास से)
पांव कीचड़ के
गड्ढे में
नहीं सनेंगे,
दिल को कोई डर
नहीं डरा सकेगा।