भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उजाला / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन तो सतरंगी
भटका, ताना बाना
उजला कभी
उच्छल बन
बिखरा

फिर अंधकार में
निमग्न अंतर
डूबे ही जाता क्यों
निरंतर

दुख के छोटे–छोटे
अंधियारे
तो हैं सबके
अपने अंदर

खिड़की के बाहर
बाट जोहती
सूरज की ऊनी-ऊनी किरण
चमेली की भीनी-भीनी गंध
आकुल है
आने को अंदर

पंछी चहकेंगे
जब होगा उजाला
खोलो
बंद पटल