भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उजाले का तालमेल / विजय चोरमारे / टीकम शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भीतर का उजाला
कम होने पर
साफ़ दिखता है बाहर का उजाला

बाहर का उजाला
तेज़ होने पर
घना होने लगता है भीतर अन्धेरा

भीतर से बाहर का
बाहर से भीतर का
दिखना चाहिए तेज़ उजाला

कैसे साधा जाए
दोनों ही ओर के
उजाले का तालमेल?

मूल मराठी से अनुवाद — टीकम शेखावत