भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उठो हे सखिया! खोलो खोलो अँखिया / रघुनन्दन 'राही'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उठो हे सखिया! खोलो खोलो अँखिया, कहाँ छै रतिया ना।
हाय राम! उगलै भोरकवा बिछावो आसनिया,
करो भजनिया ना॥
काया नगरिया में सुखमन दुअरिया, खोलो केवरिया ना।
हाय राम! पिया मिलन के शुभ छै घड़िया,
जोड़ो नजरिया ना॥
हृदय-महल में पलंग बिछाओ, सुरति सजनिया ना।
हाय राम! चकमक-चकमक मोतिया चमकै,
बाजै पैजनिया ना॥
पाँच रतनवाँ धरु अँगनवाँ, कहै सजनवाँ ना।
हाय राम! पिया महल में मिरदंग बाजै,
शुभ दरसनवाँ ना॥
शब्द के डोलिया चढ़िके सखिया, जा ससुररिया ना।
हाय राम! जन ‘रघुनन्दन’ के यही अरजिया,
सीतल छतिया ना॥