भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

उड़कर फिर अतीत में जायें / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उड़कर फिर अतीत में जायें
भूलें जो की हैं जीवन में, आओ, उन्हें गिनायें
 
पहली भूल, मिले थे क्यों हम
बदल गया कुल जीवन का क्रम
भूल दूसरी क्यों पाला भ्रम--
'प्यार न मुँह पर लायें'
 
भूल तीसरी, थी जब होली
क्यों न मली आपस में रोली
पल भी मन की गाँठ न खोली
फैला तृषित भुजायें
 
चौथी भूल, न सुख से सोये
क्यों फिर उन सपनों में खोये
सारी रात इसीको रोये--
'फिर से वे दिन आयें'
उड़कर फिर अतीत में जाएँ
भूलें जो की हैं जीवन में, आओ, उन्हें गिनायें