भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उणियारो / शिवदान सिंह जोलावास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती रा इण खूणै सूं
उण खूणै तांई
जठै सूरज री सब सूं पैली निजर पड़ै
या सब सूं लारै आथमै
मिनख री जरूरत, मुस्किल एक है।
 
वो यूं ही मरै-जीवै
जियां म्हैं।
 
समंदर रै इण पार सूं उण पार
मिनख अदीठ सूं यूं ही डरै,
जियां म्हैं
रोटी अर क्रांति री लड़ाई जबरन जुध रै खिलाफ
वै यूं ही लड़ै जियां म्हैं
अठै सूं उठै तांई
हर मां री सोच, टाबर री हंसी,
घर सुपनो एक ही है
आंसू रो खार, हंसी रो ठसको,
मुळक आखै मुलक री एक ई है।
राजी होय’र वो यूं ई गीत गावै, जियां म्हैं।