भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

उतान चलती लड़कियों के लिए / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हें किस बात का अभिमान है लड़कियो
क्यों चल रही हो इस तरह उतान
सीना तान
बार-बार निहारती हो अपनी देह
लपेटती हो दुपट्टा गले में
इतराती हुई गोलाइयों पर
क्या जताना चाहती हो।
देह के बदले कुछ पाने की पुरानी आदत
क्यों नहीं छूटती तुमसे
क्यों चाहती हो दिमाग नहीं देह से पहचानी जाओ
नश्वर है यह उठान
जिसके कारण चल रही हो उतान
कब जानोगी कि तुम्हारे पहले भी थीं
रहेंगी भी उतान चलती लड़कियाँ
खिलौना बनती खिलौनों सी इस्तेमाल होती
नारीत्व के उपहार का कुछ तो रखो मान
मत चलो बहनो इस तरह उतान।