भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उदासी / केशव तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किस किस को बताता
अपनी उदासी का सबब

किस किस से पूछता एक ऐसी उदासी
जिसमें बैचेनी न हो
हर तरफ फैली

एक मित्र ने कहा -- कामरेड
बिना वजह की उदासी भी
एक रूमान है
मैं उसे देखता रहा
वजहों पर बहस क्या करता
बेवजह कुछ करने में भी सुकून है उसे क्या बताता

ऊँट-सी तनी गर्दन लिए
कोर्इ कब तक रह सकता है
वैसे बगुलों-सी झुकी गर्दनें
देख कर भी डर जाता हूँ मै ।