भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उनकी खातिर कौन लड़े ? / राधेश्याम बन्धु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उनकी खातिर कौन
लड़े जो ख़ुद से डरे-डरे ?

बचपन को बन्धुआ
कर डाला, कर्ज़ा कौन भरे ?

जिनका दिन गुज़रे भठ्ठी में
झुग्गी में रातें,
कचरे से पलने वालों की
कौन सुने बातें ?
बिन ब्याही माँ
बहन बन गई, किस पर दोष धरे ?

चूड़ी की भठ्ठी हो चाहे
कल खराद वाले,
छोटू के मुखपर ढाबे ने
डाल दिए ताले ।
पिता जहाँ
लापता, पुत्र किससे फ़रियाद करे ?

आतिशबाज़ी के मरुथल में
झुलस रहा बचपन,
भीख माँगता भटक रहा है
सड़कों पर जन-गण ।
सौ-सौ घाव
लगे बुधिया तन, मरहम कौन धरे ?

उनकी खातिर
कौन लड़े, जो ख़ुद से डरे-डरे ?