भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उनकी सुनता आया और .... / विजय चोरमारे / टीकम शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे बोले —
हमारा टूथपेस्ट इस्तेमाल कीजिए।
 
फिर बोले —
आयुर्वेदिक टूथपेस्ट ज्यादा लाभदायक होता है।

बाद में कहने लगे —
उँगलियों से ही घिसिए पाऊडर
मसूड़े मज़बूत होते हैं!

दाँत दिखने चाहिए चमकदार
मुँह से आने न पाए बदबू इसलिए
कुछ और भी ब्राण्ड सुझाए उन्होंने
(साली, राख ही अच्छी थी इतने झंझट के मुक़ाबले)

सुझावों से शुरू हुआ दिन
जितना सुना, उतने ही बढ़ते चले गए सुझाव
अब अपने लिए निर्णय ले पाना भी हो चुका मुश्किल
बढ़ रही है पराधीनता

चाय पाऊडर लीजिए ताज़ा, आसाम के बाग़ानों से
देह के कीटाणु साफ़ करने वाला नहाने का साबुन
सफेदी की चमकार — वाशिंग पाऊडर
वाशिंग मशीन भी कपड़ों की मुलायम धुलाई हेतु

कहते हैं अनोखा स्वादयुक्त है यह नमक
कितना भी खाइए यह तेल, दिल में कोई गड़बड़ नहीं
मुलायम शेविंग क्रीम, रेज़र जो ज़ख़्म न होने दे !

खाइए भरपेट पिज़्ज़ा, बर्गर
अपचन होने तक
उस पर ले लीजिए
पानी में झाग पैदा करने वाला पाऊडर

बच्चों के लिए
पत्नी के लिए
प्रेमिका के लिए
बूढ़े माँ बाप के लिए
है कुछ न कुछ हर किसी के लिए

ठण्ड के लिए,
गरमी के लिए,
बरसात के लिए
भयानक ठण्ड के लिए
गरम लू के लिए

सूटिंग व शर्टिंग अभिनेताओं जैसा
रेडीमेड की बात ही कुछ और है, मॉडल की तरह
पहले जेबें ख़ाली कीं, फ़िर
एक एक कर शरीर के कपड़े भी
उतरवा लिए चड्डी-बनियान के साथ-साथ
नए कपड़े दिखाने से पहले
अब लुटने जैसा कुछ भी नहीं बचा
तो कर दी है बिजली गुल

उनके द्वारा निर्मित परिस्थितियों में
अन्धेरे में अन्धेरा बनकर
अब करूँ तो क्या करूँ टी० वी० शुरू होने तक?
नहीं सूझ रहा कुछ भी मुझे?

मूल मराठी से अनुवाद — टीकम शेखावत