भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उनके मन में / सुनीता काम्बोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उनके मन में है क्या समझते हैं
हम भी अच्छा बुरा समझते हैं

दर्द को और भी बढ़ा देगी
आप जिसको दवा समझते हैं

क़त्ल करना अजीब है उसका
सब उसे हादसा समझते हैं

वो हक़ीक़त से आशना ही नहीं
उनको जो बेवफ़ा समझते हैं

अब सुनीता क़लम की पूजा को
सिर्फ़ हम साधना समझते हैं