भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उन्याळै स्यूं पैली / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खींपोळी रै साग री सोरम
गांव रै चूलां सूं
सागण उणी दिनां उठै
जद नीमड़ै रै नूंवै पाना बिचाळै
मुळकता दीसै
मोवणा मींझर

थार रै तपीजणै सूं पैली
जाणै अेक ओसर
सुवाद अर सोरम री कंवळाई
काईं ठाणो
कद बावड़ै

आभै मंडीजैला
अगन रा आंक
जोहड़ै री पाळ
दूबळी सी दूब
मिचमिचा’र आंख्यां
टेक देवैली गोडा।