भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उन आँखों का आलम गुलाबी गुलाबी / बहज़ाद लखनवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन आँखों का आलम, गुलाबी गुलाबी
मेरे दिल का आलम, शराबी शराबी

निगाहों ने देखी मुहब्बत ने मानी
तेरी बेमिसाली, तेरी लाजवाबी

ये दुद-दीदा नज़ारें ये रफ़्तार-ए-नाज़ुक
इन्हीं की बदौलत, हुई है खराबी

खुदा के लिए अपनी ऩज़ारो को रोको
तमन्ना बनी, जा रही है जवाबी

है "बहज़ाद" उनकी निगाह-ए-करम पर
मेरी ना-मुरादी, मेरी कामयाबी