भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उन आँखों की हैरत और दबीज़ करूँ / ज़िया-उल-मुस्तफ़ा तुर्क

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन आँखों की हैरत और दबीज़ करूँ
क्यूँ न तुझे भी आईना तज्वीज़ करूँ

हर्फ़-ए-न-गुफ़्ता बीच में हाइल है कब से
बाब-ए-सुख़न में ख़ामोशी तक़रीज़ करूँ

फ़ुर्सत-ए-शब में तेरा ध्यान सा आ जाता है
कुंज-ए-चमन क्यूँकर घर की दहलीज़ करूँ

आँखें मुँद जाएँगी मंज़र बुझने तक
इस अस्ना में ख़्वाब किसे तफ़्वीज़ करूँ