भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

उपवन / सपना मांगलिक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुष्प झूमते हैं उपवन में
खिलती है डाली डाली
पत्ता पत्ता भीगे ओस से
रंग बिरंगी लगे हर क्यारी
भोरों की गुनगुन का गीत
तितली लेती मन को जीत
घास हरी मिटटी मटमैली
भीनी भीनी सुगंध है फैली
पक्षी करते चीं चीं का शोर
यहाँ नृत्य करते हैं मोर
आओ चलो हम पौध लगाएं
नए नए कई वृक्ष उगायें
पूरी धरती फिर होगी चमन
घर घर महकेगा उपवन