भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उमंग / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फुलै कास, बुढ़ाबै बरसा।
ई देखी हरसै छै नरसा॥
धानोॅ रोॅ गम्भड़ निकलै जेन्हैं।
सुगना रोॅ हुलसै छै ओन्हैं।
देखी धानोॅ के रंगत किसना।
मोंच्च पिजाबै हुलसी ऐंगना॥
आबकी साल धानोॅ गुमानोॅ पर।
बेटी बिहाना छै अपना आनोॅ पर॥
घरनी बैठी हाघ चमकाबै।
आपनोॅ रूप गुमानोॅ पर॥