भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उमके जोबन जियरा जरि गइले हो / भोजपुरी होली गीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

उमके जोबन जियरा जरि गइले हो,
सैंया बयरागी निकल गइले हो ।। टेक ।।

किया ओही देसवा में टेसो ना फूले ,
किया बने अमँवा मोजरि गइले हो ।।टेक ।।

किया ओही देसवा में मोरवो ना बोले,
किया ए पपीहरा मरि गइले हो।।टेक।।

कर्मेन्दु शिशिर के संग्रह से