भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उम्र भर एक ही सफ़र में रहा / विकास शर्मा 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उम्र भर एक ही सफ़र में रहा
एक ही सौदा मेरे सर में रहा

किसने देखा शनावरी का हुनर
डूब जाना मिरा ख़बर में रहा

मेरे अंजाम का था ये आग़ाज़
उसने आवाज़ दी मैं घर में रहा

कितने मन्तर रुतों ने फूँके थे
फिर भी वो ज़ह्र उस शजर में रहा