भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उरजौ ना स्याम कही मानों / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उरजौ ना स्याम कही मानों,
फट जै हैं, चुनरिया ना तानों।
इत मथरा उत गोकल नगरी,
बीच बसत है बरसानो।
रजा कंस कौ राज बुरओ है,
मथरा बीच रूपौ थानों।
मैं बेटी वृषभान लला की,
काऊकी ईसुर ना जानों।