भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उलझी वर्ग पहेली जैसा जीवन का हर पल / योगेन्द्र वर्मा ‘व्योम’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उलझी वर्ग पहेली जैसा
जीवन का हर पल

मन पर हावी हुईं कभी जब
भूखी इच्छाएँ
अस्त-व्यस्त-सी रहीं नित्य ही
सब दिनचर्याएँ

अब है केवल अवसादों का
दलदल ही दलदल

झूठी शान दिखाने की
ऐसी मारा-मारी
कुछ सुविधाओं की एवज में
कर्ज़ चढ़ा भारी

सिर्फ़ तनावों का मरुथल है
कहीं न दिखता जल

ढुलमुल अर्थव्यवस्था के
गहरे गड्ढे पग-पग
आश्वासन के खड़े कंगूरे
भी डगमग-डगमग

इन चुभते प्रश्नों को बोलो
कौन करेगा हल