भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उलटबाँसी है यह... / संजय कुमार सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस दुनिया में हत्यारे सबसे सुखी हैं
कोई दुःख नहीं है उनको
दुःख नितांत निजी अनुभव नहीं है
लेकिन उसका सीधा संबंध है दिल से।

यह कहना कि हत्यारे के पास दिल है
हत्या के तर्क को झुठलाना है
हत्यारे सबसे पहले हत्या करते हैं अपने दिलों की
इसलिए हत्यारे सबसे सुखी हैं इस दुनिया में
दुःखी होने के लिए नहीं है उनके पास दिल।

यह कहना कि उनकी आँखें नहीं होतीं
शायद उचित नहीं होगा
पर हत्यारे रोते नहीं हैं कभी भी
भूलकर भी नहीं करते हैं पश्चात्ताप

नहीं डरते हैं पाप-पुण्य के सवालों से
वे झाँकते हैं ईश्वर की आँखों में तरेर कर
इसलिए कि ईश्वर उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकता
वे ईश्वर के बारे में जानते हैं हमसे कहीं ज़्यादा।

इसलिए जो लोग परिचित हैं हत्यारों के मनोलोक से
जिनके अंदर शेष है अब भी कोई तर्क
कि जो खड़े हैं आत्मा की अदालत में बनकर शोध-पत्र
गुजारिश है उनसे कि वे भूल जाएँ
दशकों पहले के अपने अनुभव को
छोड़ दें उन कहानियों और कविताओं को
जिन्हें गुज़रना पड़ा नाटकीय हृदय-परिवर्तन से
अविश्वसनीय नहीं है वह भी

पर आज किसी क्रौंच-वध से कविता तो लिखी जा सकती है
लेकिन कोई हत्यारा कवि नहीं हो सकता
यह कविता से अधिक हत्यारे की तौहीन होगी
हत्यारे अपने समय के सबसे बड़े नायक हैं

चूँकि यह समय नायकों का नहीं है
इसलिए
आप कह सकते हैं, वे खलनायक हैं।
बड़े बहुरुपिये
जो निपुण हैं स्वांग करने में विभिन्न भाव-दशाओं के

पर कोई भाव उन्हें छू भी नहीं सकता
वे भावनाओं के कमजोर चैखटे को तोड़कर
आ गए हैं बाहर
बहुत मज़बूत हो चुका है उनका संकल्प!
वे जानते हैं कि संबंधों की गरिमा को
लिए-दिए वे नहीं चल सकते
बहुत सोचकर नहीं जिया जा सकता आज
वे इन पचड़ों को छोड़ चुके हैं बहुत पीछे।

इसलिए, शायद इसलिए
वे जी रहे हैं अकेले सारी दुनिया की ख़ुशी
हँस रहे हैं अकेले सारी दुनिया की हँसी
हिला रहे हैं अकेले अमर पेड़ के फल
कहा जाए, भोग रहे हैं अकेले इंद्र का ऐश्वर्य।
ताज्जुब होगा सोचकर कि फिर भी आप नहीं कह सकते
कि अमुक आदमी हत्यारा है
पुलिस भी शतप्रतिशत नहीं कर सकती दावा।

हो सकता है हत्यारे
आपके अगल-बगल बैठे हों
बहुत साफ़ सफ़्फ़ाक कपड़ों में
कि पुलिस की वर्दी में
कि मासूम-परेशान चेहरे में
बतिया रहे हों आपसे हत्यारों के बारे में
कि उठकर चले गए हों
आपको लाँघकर संसद के गलियारे में
याकि हों सामने महामहिम की कुर्सी पर विराजमान ।

यह कोई उलटबाँसी नहीं है
कि हत्यारों की शिनाख़्त बहुत मुश्किल है अब
आप भी जानते हैं / वे आपकी आँखों में
आकर भी धूल झोंक सकते हैं
बचाव के लिए
गीता, रामायण कि गंगाजल कुछ भी छू सकते हैं ।

हत्यारे हो गए हैं इतने शातिर कि देखकर ख़ुद को
बच्चे की आँखों में नहीं डिगते हैं / मचलकर औरत
की बाँहों में भी नहीं पिघलते हैं
कोई शब्द, माता, पिता, बहन, भाई, दोस्त
जो महज शब्द नहीं हैं
नहीं रोक सकते हैं उन्हें कभी भी

प्रार्थनाओं का भी नहीं होता है उन पर कभी कोई असर
वे अपने इरादे में
इतने पक्के हैं कि हत्या करते हैं पहले
बाद में घटती हैं घटनाएँ ।

यह उलटबाँसी नहीं है...
सच है समय का
बहुत क्रूर और निर्मम सच।
कि यह संवेदनशील लोगों के लिए बहुत ख़तरनाक समय है
यह उनके मारे जाने का समय है / जो जीना चाहते हैं
तमाम हसरतों को लिए-दिए / महसूस करना चाहते हैं
अपनी नसों में पूरी दुनिया की धड़कनें

कि जिनके पास रोने के लिए बची हैं आँखें
कि जीने के लिए हैं अदद दिल
कि जो हत्यारे नहीं हैं
और इसलिए नहीं हैं सुखी ।

यह कोई उलटबाँसी नहीं है
कि परिन्दे समुद्र में डूबकर कैसे मर गए
कि सपने कैसे आत्मघात कर रहे हैं खुली आँखों में
कि घर के रहते लोग कैसे चले गए आत्म-निर्वासन पर
कि इतनी फकत इतनी रोशनी में भी कहीं कुछ
दीख रहा है नहीं क्यों? कि इतने गवाहों
बयानों के रहते हत्यारे की शिनाख़्त क्यों नहीं हो रही?
कि तमाम सवालों से होकर गुजर जाएँ तो भी
क्या मिलेगा आपको / बस इतना जानें कि
बध्य हो गई हैं सारी परिस्थितियाँ
आगे-पीछे, अगल-बगल / ऊपर-नीचे
कि धरती से लेकर अंतरिक्ष तक
हर कहीं कायम हो गया है हत्यारों का साम्राज्य
मँडरा रहे हैं मौत के ख़तरे इस कदर @ कि हदस कर
फूलों ने खिलना छोड़ दिया है मन के मधुवन में।

आप ही बताएँ, कोई कैसे सुखी हो सकता है
सुखी होने के लिए हमारा हत्यारा होना जरूरी है।

उलटबाँसी नहीं है यह
कि हममें से जो हत्यारे नहीं हुए हैं / सुखी नहीं हो सकते
दुःखी होने के लिए बहुत कारण मौजूद हैं उनके पास
कि जैसे आदमी होने के लिए बहुत से दुःख हैं उनके पास
उलटबाँसी नहीं है यह कि दुःखी है आदमी
यह आदमी होने का ठोस प्रमाण है ।

सबूत कि बच रहे हैं अभी भी आदमी
हम उम्मीद कर सकते हैं कि फिर भी बची रह जाएगी
यह पृथ्वी अपने दुःखों के बीच / ज़िन्दा रह जाएँगे
क्रूस पर लटककर ईसा
कि जैसे जहर पीकर सुकरात
गोली खाकर बापू ।

कि जैसे सारी दुनिया के दुःखों को ढोकर
बहती है अभी भी नदी / कि रोज तोड़े जाने के बाद भी
बच रहे हैं पहाड़ / काटे जाने के बाद भी ख़त्म नहीं हुए हैं जंगल
बचे रहेंगे आदमी !

उलटबाँसी नहीं है यह
कि सदियों के इतिहास के हास और भूगोल के भूडोल के बीच
बचा रहा है दुःख / कि बचा रहता है दुःख
अनगिनत हमलों और हमलावरों से परास्त होकर भी
कि आने से पहले / कि उनके जाने के बाद भी
हमें बचाए रहता है हमारा दुःख ।

उलटबाँसी नहीं है यह कि दुःखी हैं लोग
दुःख ठोस सबूत हैं उनके होने के ।
उलटबाँसी है यह कि हत्यारे सुखी हैं
कि सुखी होने के लिए
हमारा हत्यारा होना जरूरी है।