भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उल्टे सीधे गिरे पड़े हैं पेड़ / सूर्यभानु गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उल्टे सीधे गिरे पड़े हैं पेड़
रात तूफ़ान से लड़े हैं पेड़

कौन आया था किस से बात हुई
आँसुओं की तरह झडे हैं पेड़

बाग़बाँ हो गये लकड़हारे
हाल पूछा तो रो पड़े हैं पेड़

क्या ख़बर इंतिज़ार है किस का
सालहासाल से खड़े हैं पेड़

जिस जगह हैं न टस से मस होंगे
कौन सी बात पर अड़े हैं पेड़

कोंपलें फूल पत्तियाँ देखो
कौन कहता है ये कड़े हैं पेड़

जीत कर कौन इस ज़मीं को गया
परचमों की तरह गड़े हैं पेड़

अपनी दुनिया के लोग लगते हैं
कुछ हैं छोटे तो कुछ बड़े हैं पेड़

उम्र भर रासतों पे रहते हैं
शायरी पर सभी पड़े हैं पेड़

मौत तक दोस्ती निभाते हैं
आदमी से बहुत बड़े हैं पेड़

अपना चेहरा निहार लें ऋतुएँ
आईनों की तरह जड़े हैं पेड़