भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

उल्लू क्यों बनाते हो जी / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुस्सा आ जाता है तो हम
कट्टी सबसे कर लेते हैं।
नहीं रहा जाता है तो हम
अब्बा भी झट कर लेते हैं।

कट्टी करते हॆं तो कैसे
सभी मनाने हमको आते।
अब्बा करते हॆं तो कैसे
गोदी में सब हमें उठाते।

शोर करें तो क्यों माँ कहती
आसमान सिर पे न उठाओ।
आसमान तो इतना भारी
कौन उठाता यह बतलाओ!

हम को छॊटू छोटू कह कर
उल्लू क्यों बनाते हो जी!
आ जाएगा बाबा कह कर
हम को क्यों डराते हो जी!