भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

उल्लू मियाँ / शेरजंग गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उल्लू मियाँ, उल्लू मियाँ,
क्यों बन्द कर दीं खिड़कियाँ?

कितनी मधुर है रौशनी,
है धूप सोने-सी छनी।

हर ओर जीवन दीखता,
पर तू न हँसना सीखता।
खाता हमेशा झिड़कियाँ,

उल्लू मियाँ, उल्लू मियाँ,
क्यों बन्द कर दीं खिड़कियाँ?