भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसका दिन / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
पहाड़ी नारी
पहाडी नदी -सी ही
संघर्ष करे ।
2
रुके न थके
गिर-गिर कर भी
दृढ़ प्रयास ।
3
उसका दिन
अठारह घंटे का
रातें-कराहें ।
4
पहाड़नों का
चारा पत्ती में ढला
जीवन पूरा ।
5
झुर्रियाँ उगीं
गवाह संघर्ष की
जर्जर देह।
6
बर्फ -चादर
कली– सी सिमटती
देह की शोभा ।
7
सूनी घाटी में
खनकती चूड़ियाँ
रोएँ पायल ।
8
बर्फीली हवा
पेड़ों पे कृशदेह
लटकी -झूले ।
9
सीढ़ी -से खेत
बिवाईं खून-भरी
आहें न थमें॥
10
मकाँ को घर
बनाना चाहते थे
दीवारें ढही ।