भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसके दिल को जोड़ लिया / धीरज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सेतु बनाकर अपने दिल से,उसके दिल को जोड़ लिया।
मैंने जैसे कोई तारा आज गगन से तोड़ लिया।

आओ खुशियों साथ निभाओ
और सदा ही संग रहो !
आँगन मेरे महको बेला
लगकर मेरे अंग रहो !

सच कहता हूँ मैंने मुँह को,अवसादों से मोड़ लिया।
मैंने जैसे कोई तारा आज गगन से मोड़ लिया।

सरसों के पीले फूलों सा
झूमे औ' मुस्काये मन !
पछुवाई भी भंग पिलाये
खूब हँसे बौराये मन !

रंग गुलाबी घोला मैंने अपने ऊपर छोड़ लिया।
मैंने जैसे कोई तारा आज गगन से तोड़ लिया।

आऊँ जाऊँ अंदर बाहर
ठुमक ठुमककर नाचू मैं !
और सुखों की इक - इक चिट्ठी
अन्तर्मन में बाँचू मैं !

देख दुखों ने अपना सर औ' अपना माथा फोड़ लिया।
मैंने जैसे कोई तारा आज गगन से तोड़ लिया।