भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसके पास / अर्जुनदेव चारण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उसके पास
होती हैं दो आंखे
स्वप्न-विहीन
उसके पास होते है होंठ
निःशब्द
उसके पास होते हैं हाथ
फैलाने के लिये
दूसरों के सामने
उसके पास होते हैं पांव
पर वह
जीती है/तमाम जिन्दगी
अपंग ।

अनुवाद :- कुन्दन माली