भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उससे मिल आए हो लगा कुछ-कुछ / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उससे मिल आए हो लगा कुछ-कुछ
आज ख़ुद से हो तुम जुदा कुछ-कुछ

दिल किसी का दुखा दिया मैंने
ज़िंदगी मुझसे है ख़फा कुछ-कुछ

मेरी फ़ितरत में सच रहा शामिल
अपना दुश्मन ही मैं रहा कुछ-कुछ

आग पीकर भी रौशनी देना
माँ के जैसा है ये दिया कुछ-कुछ

उलझे धागों से हमने समझा है
ज़िंदगानी का फ़लस़फा कुछ-कुछ