भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस अँधेरी रात में बस दिल दरख्शां थे सभी / प्रेमचंद सहजवाला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उस अँधेरी रात में बस दिल दरख्शां थे सभी
काफिला चलता हुआ फिर जश्न तक आ ही गया

इक शजर ने छांव दे कर हाथ सर पर रख दिया
रास्ता मंज़िल को जाता फिर समझ आ ही गया

सच का चेहरा ओढ़ कर वो किस कदर मसरूर था
एक दिन वो शख्स आईने से कतरा ही गया

इक सियासतदान ने तक़रीर की थी कल यहाँ
अपने लफ़्ज़ों में वो सारी बस्ती उलझा ही गया