भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस एक पल के लिए / विजय चोरमारे / टीकम शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लौट आने की गुंजाइश
वैसे कम ही थी पहाड़ की चोटी से
अन्तिम शब्दों ने अचूक निशाना लगाया
पछताने की नहीं आए नौबत तुम पर
इसलिए लौटा था वापस
उससे भी परे
एक सपने की डोर का मिला आधार

जानता हूँ मैं
कि तुम सहज नहीं चली जाओगी
किसी की शरण
धैर्य नहीं खोओगी किसी भी मुश्किल पड़ाव पर
उम्मीद हैं कि किसी भावुक पल में
जब ज़िन्दगी जीने की थकान का एहसास होगा
तब हो जाओगी तुम व्याकुल
तब जानोगी विश्रान्ति के लिए
ज़रूरी चाहिए कुछ पल,
अपने हिस्से की जगह तुम्हारे लिए

उसी पल का है स्वप्न
वही है ज़िन्दगी का आधार
है ज़िन्दगी के ग्रीष्म की सारी तपन से मुक़ाबला
बस, उसी एक पल के लिए।

मूल मराठी से अनुवाद — टीकम शेखावत