भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस तरफ नेमतों की बारिश है / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस तरफ नेमतों की बारिश है।
इस तरफ भूख की गुज़ारिश है।।

चार पैसे कमा लिये जब से,
मानता खुद को, वो तो दानिश है।।

छीन लेते हैं कौर भी मुँह का,
या खुदा किस तरह की साज़िश है।।

देखिए तो चलन जमाने का,
इल्म से भी बड़ी सिफ़ारिश है।।

देख कर मुस्कुरा दिया उसने,
मानता हूँ ‘मृदुल’, नवाज़िश है।।