भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस रात तेज़ चल रही थी हवा / योशियुकी रिए

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: योशियुकी रिए  » उस रात तेज़ चल रही थी हवा

मेरा नन्हा बेटा
भाग गया मेरे पास से
और छिप गया

मैं उसे सुलाना चाहती थी
थपकियाँ दे देकर
मैंने उसे थामने की कोशिश की
पकड़ ली उसके कुर्ते की बाँह
पर बाँह छुड़ा वह भाग गया
छिप गया सदा के लिए

लौट आ, लौट आ मेरे बच्चे...
पर वो नहीं था, कहीं नहीं, कहीं भी नहीं
सिर्फ़ हिलते पेड़ों का शोर था
सिर्फ़ तेज़ हवा की आवाज़ थी

मैंने पूरी खिड़की खोल दी
और चिन्तित उन पेड़ों की
फुसफुसाहट सुनने लगी...

मूल जापानी से अनुवाद : रोली जैन