भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस सुदूर दिन की नीली याद में / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस दिन हम कैसे गहगहे-महमहे थे!

वह प्रभात-
कदम्ब क फूल-सा रोमांचित था!
वह कांचनारी दोपहरी-
पूर्णतम उभरे उरोजों को कसे
साटिन के ब्लाउज़ पर खेलती
सूर्याभा-सी चमकदार थी!

वह सांझ-
होली के दिनों की पिचकारी से छुटी
रंगीन फुहार थी!

वह रात-
तीज-चौथ की क्वाँरी चाँदनी में महकती
भीनी-मिसकती
लजवंती जूही-सी निंदियारी थी!
वह सारा ही दिन तुम्हारे मोती-दाँत की रलक में
रलमलाता रहा था!
तुम्हारी वाणी की झनकार में
सब कुछ छहरा जा रहा था-
उस दिन!
घनघटाओं से घिरी कश्मीरी घाटी-सी
तुम्हारी रतनारी-कजरारी आँख से
सब कुछ तरलित-दोलायमान था!
चिहुँकते कुन्तलों के जूड़े की
उनींदी गंध में
आकाश-तरंगे पुलकित थीं!
उस दिन-
हमारे चरण-
कितने हल्के-हल्के थे!

काल के पटल पर खिँच चुकी है
सदा-सदा के लिए
उस सुदूर दिन की कोमल-कनक-तरल-हिंगुल लेखा;
जैसे-गुलाब की खरौंट
किसी गोरी-गुदगुदारी, रक्ताभ, स्निग्ध काया पर!

ओह-
वह दिन!