भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ऊँख में मधुराई जइसे सेंधे में है नमकापन / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊँख में मधुराई जइसे सेंधे में है नमकापन,
तील में है तेल वो शीतलता ओले में।
नीम में कडुआपन अइसे मिर्ची में तीछनता,
दूध में है घृत और सुगंध है बेले में।
आम में खटाई जैसे अग्नि में है उष्मता,
जल में खारापन और रूइ है बिनोले में।
काठ में अगिनी जैसे बीजन में वृक्ष छिपा,
वैसे ही महेन्द्र राम प्राणियन के चोले में।