भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊँघतीं हैं दोपहर की कच्ची डगार से / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊँघतीं हैं
     दोपहर की कच्ची डगार से
           मुनगे की सूख चुकी फलियाँ


सींच जाती है
         उड़ती कोई चिड़िया
              दूबरी
          परछाईं से