भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊँचों खैरो डगमगो गुन गाइये / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊँचों खैरो डगमगो गुन गाइये
औ जा पै बैठे गनेस, गनेस मनाइये।
टूटे जुरे सनेह गनेस मनाइये।
इ कलजुग में दो बाड़े
इक धरनी दूजौ मेघ।
मेघा बरसे धरनी उपजे
जासें घर पूरन हो जाये। गुन गाइये...
इ कलजुग में दो बाड़े
इक घोड़ी दूजी गाय
गाय कौ बछड़ा हल जाते घोड़ी कौ रन फाराये।
गणेस मनाइये...
इ कलजुग में दो बाड़े
इक माई दूजी सास।
माई की कुखियन जनम लिये औ सासो दिये घर बार।
इ कलजुग में दो बाड़े
इक साईं दूजे वीर।
बीरन की पैरें चोखी चूनरी साईं को विलसें राज।
इ कलजुग में दो बाड़े
इक चूलौ दूजी खाट
खाट चढ़ बेटा जाइयौ चूले पै चरूआ धराऔ।
गाँवन गाँवन वे बसें औ घर घर दीपक लजायें।
ऊँचो खैरो...