भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ऊँ ते समदी आयो देड़ दमड़ी को / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ऊँ ते समदी आयो देड़ दमड़ी को
फुटी कौड़ी को।।
हमरो पलंग बन्यो हाय पाँ रूपया को
तोनऽ तड़प लायो देड़ दमड़ी को
फुटी कौड़ी को।।
हमरो पलंग बन्यो हाय पाँ रूपया को
तोनऽ तड़प लायो देड़ दमड़ी को
फुटी कौड़ी को।।
हमरो पलंग बन्यो हय पाँच रूपया को।।