भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ऊंची टिकुरिया सोहगिया के बगिया / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ऊंची टिकुरिया सोहगिया के बगिया
सोहगिया के लम्मे लम्मे पात
राजा के सोहागवा
ओही व्है के निकरै हैं दुलहे कउन सिंह
बांधे केशरिया कै पाग
भितरे से निकरी है धेरिया कउन कुंवरि
पूंछै दुलैरूवा से बात
राजा के सोहागवा
काहे रंगी साहेब तुम्हरी पगड़िया
काहे रंगे दांत तुम्हार
राजा के सोहागवा
कुसुम रंग रंगी धना हमरी पगड़िया
पनवा रचे मोरे दांत
राजा के सोहागवा
काहे रंग रंगी धना तुम्हरी चुनरिया
काहे भरी तुम्हरी मांग
पियरी रंगी है साहेब हमारी चुनरिया
सेन्दुरा भरी मोरी मांग
राजा के सोहागवा