भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ऊधो ऐसी कइयो हरि से / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ऊधो ऐसी कइयो हरि सें,
नंदलाला गिरधर सें।
कै गये ते दस पांच रोज की,
बीत गई हैं बरसें। ऊधो...
खान पान निस नींद न आवे,
प्राण रात दिन तरसें। ऊधो...
अब तो ये आंखन के अंसुआ,
होड़ लगाये बरसें। ऊधो...