भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊधो यक्ष प्रश्न के उत्तर / आनन्दी सहाय शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊधो यक्ष-प्रश्न के उत्तर
पूछ रहा है मुझसे मैं तो भट्टाचार्य निरक्षर ।।

तिनके चार मिले थे केवल
बने नशेमन कैसे
लड़ता नंगे हाथ कठिन-
जीवन का रन कैसे
शत्रु सैन्य से पटा इलाका जगह न बाक़ी तिल भर ।।

एक त्रासदी साँसें लेना
भय के कम्पित घेरे,
कटे-फटे शव घायल अणु-अणु
पानी-पानी टेरे
चोंच डूबाते गिद्ध घाव में फूटे शोमित निर्झर ।।

सात्विक क्रोध रक्त में लेकिन
हिंसा कभी न जागी
युद्ध क्षेत्र के लिए निरर्थक
कोमल मन अनुरागी
शोषण करते रहे उम्र भर पाजी ढाई अक्षर ।।