भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊधो वक़्त हो गया नंगा / आनन्दी सहाय शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊधो वक़्त हो गया नंगा ।।
हाजी बखिया बीन बजायें नाचें बिल्ला-रंगा ।।

विधि विधान पुस्तक में सोए
ओढ़े कफ़न तिरंगा
जंगल का कानून चतुर्दिक
लाठी राज अभंगा
घर बाहर दहशत के डेरे कोई साथ न संगा ।

मनु का रक्त स्वास्थ्यवर्द्धक अति
पीने वाला चंगा
रोगी जल में कहाँ हिलोरें
उर्मिल मस्त तंरगा
शिव के जटा-जूट जा बैठी पतित पावनी गंगा ।।