भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऊब / श्रीनिवास श्रीकांत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शाम की सुन्दूरवर्णी झील में
आत्महत्या कर गया है
         आज का दिन
कौन जाने किस नगर-पथ से भटककर
आज विधवा रात
मेरे द्वार आयी है

मगर मेरे पास
कुछ भी नहीं
हाँ,कुछ भी नहीं है
महज़ अनगिन सीपियां है
सीपियाँ बीते क्षणों की

बाँझ

आज मैं कुछ भी नहीं
कुछ भी नहीं हूँ
तभी शायद ऊबकर मुझसे
अचानक

मर गया है आज का दिन
शाम की सिन्दूरवर्णी झील में