भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ऊ की छेकै / अमरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आम, साफड़ी, कटहल, बोॅर
ई सब छेकै केकरोॅ घोॅर
केकरा सें ई सब केॅ डोॅर
केकरा देखी ओकरौ जोॅर
भागी जाय जे तोरे तोॅर
खलखल हाँसै फरलोॅ फोॅर।