भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऋतु वसंत की आयी / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ऋतु वसंत की आयी
नव प्रसून फूले, तरुओं ने नव हरियाली पायी
 
पाकर फिर से रूप सलोना
महक उठा वन का हर कोना
करती जैसे जादू-टोना
फिरी नवल पुरवाई
 
लज्जा के अवगुंठन सरके
नयनों में नूतन रस भरके
गले लगी लतिका तरुवर के
भरती मृदु  अँगड़ाई  

ऋतु वसंत की आयी
नव प्रसून फूले, तरुओं ने नव हरियाली पायी