भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऎसा ही समय रहा होगा / मोहन साहिल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ठीक ऐसा ही समय रहा होगा
जब किसी ने अपने मित्र से
किया होगा
पहली बार विश्वासघात

स्त्रियाँ शालीनता भूल दौड़ पड़ी होंगी निर्वस्त्र
बाज़ारों की तरफ़
तरसे होंगे बुजुर्ग अपनी औलादों की सेवा को

आकाश में ऐसे ही समय सुराख़ हो गया होगा
बरसा होगा
मगर बूंदों में नहीं
सब जगह भी नहीं
कुछेक को ही मिला होगा
गला तर रखने को पानी

ज़हरीली हो गई होगी हवा
सभागार सुलग उठे होंगे
शवों की कतारों के बावजूद

शहर झूमते होंगे मदमस्त
बिंध जाती होगी आदमी की छाती

जानवर भय से थरथराते होंगे
राक्षस देवताओं पर टूट पड़े होंगे

ऐसा ही समय रहा होगा जब
समय ने स्वयं आ कर
बचाया होगा आदमी को।